हर रात की एक सुबह हुई,
हर शाम की एक रात।
शाम से पूछा कैसी हो, तो बोली,
“बस गुज़र गई वो रात”।

/kritika.

Advertisements